Alshifa
Reaction score
24

Profile posts Latest activity Postings About

  • यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं,
    अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो
    नीचे गिरे सूखे पत्तों पर अदब से चलना ज़रा कभी कड़ी धूप में तुमने इनसे ही पनाह माँगी थी।
    आप पहलू में जो बैठें तो सँभल कर बैठें दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की
    दिल को मिटा के दाग़-ए-तमन्ना दिया मुझे ऐ इश्क़ तेरी ख़ैर हो ये क्या दिया मुझे
    आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है
    बदन में जैसे लहू ताज़ियाना हो गया है उसे गले से लगाए ज़माना हो गया है
    उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए
    फूलों की दुकानें खोलो, खुशबू का व्यापार करो इश्क़ खता है तो, ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो
    तुझको इन नींद की तरसी हुई आंखों की कसम अपनी रातों को मेरी हिज्र में बरबाद न कर
    • Like
    Reactions: Nooone
    Nooone
    Nooone
    क्या कहे हुजूर! इस आखों में तेरा ही चेहरा रहता है।
    इश्क़ में जी को सब्र ओ ताब कहाँ उस से आँखें लड़ीं तो ख़्वाब कहाँ
    नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए पंखुड़ी इक गुलाब की सी है
    यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं, अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो
    तेरे रुखसार पर ढले हैं मेरी शाम के किस्से, खामोशी से माँगी हुई मोहब्बत की दुआ हो तुम
    मैं पा सका न कभी इस ख़लिश से छुटकारा वो मुझ से जीत भी सकता था जाने क्यूँ हारा
    मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही, हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए
    कई बार इसका दामन भर दिया हुस्ने-दो-आलम से मगर दिल है केः उसकी ख़ानःविरानी नहीं जाती
    दुआ माँग लिया करो दवा से पहले, कोई नही देता शिफ़ा खुदा से पहले
  • Loading…
  • Loading…
  • Loading…
Top